Category Archives: ध्वनि तरंगों की प्रकृति कैसी होती है

ध्वनि तरंगों की प्रकृति कैसी होती है | SSC CHSL, RRB, UPSSSC, GROUP-D में आये महत्वपूर्ण प्रशन

ध्वनि तरंगों की प्रकृति कैसी होती है

ध्वनि तरंगों की प्रकृति कैसी होती है

1. ध्वनि तरंगे निर्वात से नही गुजरती करती है। क्योकि ध्वनि तरंगों को एक स्थान से दुसर स्थान तक जाने के लिए मध्यम की आवस्यकता होती है।
2. ध्वनि तरंगे तीन मध्यम ठोस, द्रव, गैस मे गमन करती है ।
3. ठोस मे ध्वनि की चाल अधिकतम होती है।
4. गैस मे ध्वनि की चाल सबसे कम होती है।
5. वायु मे ध्वनि की चाल 332 m/s होती है।
6.ध्वनि तरंगे की प्रकृति अनुप्रस्थ होती हैं।
1.निम्न मे कौन सा ध्वनि तरंगे के लिए सत्य है?





    Ans 0 c पर इसकी चाल 332 m/s होती है।.

2.ध्वनि तरंगों की प्रकृति कैसी होती है?





    Ans अनुदैर्ध्य.

3.चंद्रमा पर धरातल से दूर बिस्फोट सुनाई नही देता?





    Ans वायुमंडल की अनुपस्थि के कारण.

4. वायु मे ध्वनि की चाल 332 m/s होती है। यदि दाब बढ़ाकर दोगुना कर दिया जाए तो ध्वनि की चाल होगी?





    Ans 332 m/s.

5.निम्न द्रव्यों मे ध्वनि की चाल अधिकतम होती है?





    Ans स्टील Note ध्वनि की चाल ठोस मे सबसे अधिक और गैस मे सबसे कम होती है।
    .

6.बदलो मे बिजली की चमक के काफी समय बाद बदलो की गर्जन सुनाई देती है?





    Ans प्रकाश की चाल ध्वनि की चाल से अधिक होती है। Note Note – प्रकाश की चाल 3×10^10 m/s होती है और ध्वनि की चाल 332 m/s होती है जो प्रकाश की चाल से कम है। यही कारण है की प्रकाश पहले दिखाई देती है और ध्वनि बाद मे सुनाई देती है।

 जल के भौतिक और रासायनिक गुण भाग-1 

 भारत के प्रसिद्ध ऐतिहासिक एवं दर्शनीय स्थल भाग-2 

 यांत्रिकी भाग-3