Tag Archives: संपूरक कोण किसे कहते हैं

संपूरक कोण किसे कहते हैं प्रतियोगी परीछा में आने वाले महत्वपूर्ण प्रशन

हम इस आर्टिकल में  संपूरक कोण (supplementary angle) के बारे में जानेंगे की संपूरक कोण (supplementary angle) किसे कहते हैं। और इस टॉपिक से प्रतियोगी परीछा में आने वाले प्रश्नों का अध्ययन करेंगे। अक्सर संपूरक कोण (supplementary angle) से अलग अलग एग्जाम में प्रशन आते रहते हैं।

संपूरक कोण शब्द का नाम सुनाने पर हमारे दिमाग में यह विचार आता है| की संपूरक कोण किसे कहते हैं? | संपूरक कोण की परिभाषा क्या है? | संपूरक कोण का मान क्या होता है| इस आर्टिकल में इन विषयो पर सम्पूर्ण जानकारी डी गयी है|

संपूरक कोण किसे कहते हैं?

यदि किन्ही दो कोणों का योग 180 अंश हो तो इस प्रकार के कोण को संपूरक कोण (supplementary angle) कहते हैं। “

संपूरक कोण की परिभाषा

ऐसे कोणो का युग में जिनका योग 180 अंश के बराबर हो sampurak kon (supplementary angle) कहलाते हैं।

संपूरक कोण

माना दो कोण A और B है। इन कोणों के मान क्रमशः A = 70० और कोण B =110० इनका योग 180 अंश बराबर है।

अर्थात A+B = 70 + 110 = 180 है। इसका अर्थ यह हुआ कि यह “संपूरक कोण” (supplementary angle) हैं।

संपूरक कोण का मान

संपूरक कोण का मान 180 के बराबर होता है|

संपूरक कोण महत्वपूर्ण प्रश्न

  • दो कोण A और B जिनके मान क्रमशा A = 100 और B = 80 अंश है| इन दोनों कोणों का योग 180 अंश है| तो ये …… कोण है|
  1. संपूरक कोण
  2. पूरक कोण
  3. आसन्नः कोण
  4. शिर्षभिमुख कोण

Ans – 1

  • उस कोण का मान क्या है जो अपने संपूरक कोण का 5 गुना है?
  1. 100०
  2. 150०
  3. 180०
  4. 270०

Ans- 150०

हल

माना कि एक कोण A है|
A का संपूरक कोण A=(180 -A) प्रश्न के अनुसार A = 5(180-A) A = 900 – 5 A 6A = 900 A = 150

  • उस कोण का मान क्या है जो अपने संपूरक कोण का 2 गुना है?
  1. 150०
  2. 180०
  3. 160०
  4. 270०

Ans- 3

माना कि एक कोण A है|

A का संपूरक कोण A=(180 -A)  प्रश्न के अनुसार A = 2(180-A)   A = 360 – 2A   3A = 360   A = 120

  • उस कोण का मान क्या है जो अपने संपूरक कोण का 8 गुना है?
  1. 150०
  2. 180०
  3. 160०
  4. 270०

Ans- 3

माना कि एक कोण A है|

A का संपूरक कोण A=(180 -A)  प्रश्न के अनुसार A = 8(180-A)   A = 1440 – 8A   9A = 1440   A = 160

संपूरक कोण पूरक कोण 
शीर्षाभिमुख कोणआसन्न कोण
न्यून कोणअधिक कोण
ऋजु कोणवृहत कोण